हमे लोग गरीब कहते है

 

हमे लोग गरीब कहते है
शहरो की गलियों में रहना और उनकी गंदगी उठाने को 
ये हमारा नसीब कहते है
जी हां, ये लोग हमे गरीब कहते है


अपना घर,गांव सब कुछ छोड़ कर 
शहरो में काम करता गरीब ही है
दुःख इस बात का है 
इन शहरो में भूख से, हर रोज मरता गरीब ही है 


तुम्हारे शहर,रास्ते हमने बनाये 
अब हमे ही तुम दूर जाने को कहते हो 
अफ़सोस, तुम खुद को अमीर 
और हमे गरीब मज़दूर कहते हो 


इंसानो की इंसानियत में, हमे तो आज भी नूर दिखता है 
अफ़सोस है शहरो की गलियों में 
तुम्हे बस आजकल बेबस और गरीब मज़दूर दिखता है 


तारीख: 30.05.2020                                                        अंकित कुमार श्रीवास्तव






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है