इश्क से फुर्सत मिले

 

तेरे इश्क से फुर्सत मिले , तो मैं कुछ काम करूं।

खुद को सौंप ही दिया है तुझे, बता और क्या तेरे नाम करूं।

 

अपने ख्वाबों आसमां में , तो बातें तुझसे बेहिसाब करूं।

तू चमकता सितारा है आसमां का,आ तुझे अपना मेहताब करूं।


तारीख: 24.05.2020                                                        रुपक कुमार कृतवान






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है