मातृत्व


वो रोजाना-
तुम्हारा चलना,
तुम्हारा फिरना,
तुम्हारा दौड़ना,
फिर-तुम्हारा थकना !
मां,बहुत याद आता हैं ।

वो रोजाना-
तुम्हारा पीटना,
तुम्हारा मारना,
तुम्हारा डाटना,
फिर-तुम्हारा पुचकारना !
मां,बहुत याद आता हैं ।।

वो रोजाना-
तुम्हारा सताना,
तुम्हारा जताना,
तुम्हारा मनाना,
फिर-तुम्हारा दुलारना !
मां,बहुत याद आता हैं ।

वो रोजाना-
तुम्हारा सुनाना,
तुम्हारा रूलाना,
तुम्हारा दुतकारना,
फिर-तुम्हारा समझाना !
मां,बहुत याद आता हैं ।।

वो रोजाना-
तुम्हारा सजना,
तुम्हारा संवरना,
तुम्हारा निखरना,
फिर-तुम्हारा मुस्कुराना !
मां,बहुत याद आता हैं ।

वो रोजाना-
तुम्हारा सुलाना,
तुम्हारा झुलाना,
तुम्हारा पिलाना,
फिर-तुम्हारा गीत गाना !
मां,बहुत याद आता हैं ।।


तारीख: 27.05.2020                                                        मयंक शर्मा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है