पहले जैसी बात नही

पहले जैसी बात नही 
उन रिश्ते - नातों में
उधड़े उधड़े से 
महसूस लगे हैं होने
डरती हूं अक्सर मैं
कभी आवाज भी दे तो
टकराकर दीवार से
वापस ना आ जाये 
अपनी ही आवाज 
क्यूं पहुंच से बाहर होने लगा है हर रिश्ता 
कम होने लगी है उम्र
हर रिश्ते की शायद 


तारीख: 09.07.2021                                                        अनिता कुलकर्णी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है