सरकारी दफ्तर

सरकारी दफ्तर
में देखी
मैंने अमलासाजी है!

चमचागिरी के
कौवे बैठे
आफिस की शाखों में!
उच्च पदों पर
बैठे लोग
खेल रहे लाखों में!!

वर-वधु में
बैर करा दे
वह ही सच्चा काजी है!

है देश की सुविधाएं-
संसद में-
बैठा करतीं!
नौकर-चाकर पर
मंत्राइन-
ऐंठा करतीं!!

मंत्री जी बस
दिखा रहे
अपनी पैंतरेबाजी है!

आखिर संबंधों के
तोता-मैना
जाने कहाँ उड़े!
बाज सरीखे पक्षी
छत-मुंडेरों
से आज जुड़े!!

मुझे आम आदमी
लगता बंदर
या चिंपाजी है!
 


तारीख: 27.08.2021                                                        अविनाश ब्यौहार






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है