उसके चले जाने से कुछ ज़्यादा फ़र्क़ तो नहीं पड़ा

 

उसके चले जाने से कुछ ज़्यादा फ़र्क़ तो नहीं पड़ा
ना मेरी रातों की तन्हाईयाँ बदली
ना दिन का भीड़भाड़ बदला ।
साँस भी उतनी ही लिया करता हूँ अब भी
और दिल भी वक़्त पर धड़कता रहता है।
अब पूरे का पूरा बिस्तर मेरा और सिर्फ़ मेरा था
अब तकिये को मोड़ने पे डाँटने वाला कोई न था।

बस ये घर की सीढ़ियाँ ग़मगीन हैं
अब उनपे उसके पैर जो नहीं पड़ते।
घर की छत भी कुछ ख़फ़ा सी है,
पूछती है मुझसे वो आजकल छत पे क्यों नहीं आती है।
आँगन का झूला भी संग उसके झूलने को तरसता हैं
और वहाँ का फ़व्वारा भी अब नहीं बरसता है
फ़र्श तो जैसे बिना रंगोली बेवा सी लगती है
अब रसोई भी बेचारी कहाँ पहली सी दिखती है
खिड़कियाँ उसके गानों का इंतज़ार करती रहती हैं
उसके न होने की वजह दीवारें पूछती रहती हैं।

हाँ, बाग़ीचे के सारे फूल भी मुरझा गए हैं
रात के जुगनू भी अब टिमटिमाते नहीं,,
आसमान भी रातों को खाली खाली लगता है,
अलमारी में रखी उसकी किताबें,
तकिये के कवर पे जो उसने बनाये थे वो फूल
और अचार की सारी बर्नियाँ भी उसे याद करती हैं।

हाँ, उसके चले जाने से कुछ ज़्यादा फ़र्क़ तो नहीं पड़ा
ना मेरी रातों की तन्हाईयाँ बदली
ना दिन का भीड़भाड़ बदला....


 


तारीख: 04.05.2020                                                        जॉनी अहमद क़ैस






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है