विवाह में गठजोड़ के 

विवाह में गठजोड़ के 
बँधन से बँधे हम 
प्रेम में 'जोड़ा' हो पाए,
यह कहना जितना आसान है,
वास्तव में जोड़ा होना 
उतना आसान नहीं है,
जोड़ा होने की पीड़ा
जोड़ा होने की प्रसन्नता
जोड़ा होने की विवशता 
जोड़ा होने का डर
जोड़ा होने की मर्जी
सब अलग अलग बातें हैं !
वास्तव में 'जोड़ा' होने की 
आंतरिक अनुभूति होना बहुत कम 
जोड़ों को नसीब होता है !
जिन्हें नसीब हो गया
वो जोड़े में ही जीते हैं
और ईश्वर के आशीर्वाद से 
देर सबेर जोड़ा होकर ही जाते हैं.
अपने आसपास ढूंढोगे तो
मिलेंगें ऐसे कम जोड़े जो 
कहने भर को जोड़ा नहीं,
वास्तव में जोड़ा हो पाए!
जो जोड़ा हो पाए केवल 
वे ही जान सकते हैं कि
प्रेम में जोड़ा' होकर रहना
बहुत कष्टदायी है !
जो इसमें होने की 
पीड़ा से गुजर कर इसमें रह जाते हैं
केवल वही दोनों सातों जनम 
'जोड़ा' होने का सौभाग्य पाते हैं !


तारीख: 09.07.2021                                                        सुजाता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है