वादा

जब मन में कोई बोझ ना हो
दिल में कोई राज ना हो
तुम आना मेरे पास 
हल्के फुल्के शब्दों में 
एक वादा मुझसे कर देना

एक वादा करना 
जब तक आसमान में चांद रहे
हर रात मुझसे बात करोगे
जैसे सागर और लहरें साथ रहे
वैसे तुम मेरे हमेशा साथ रहोगे

जब आसमान में बादल ना हो
सांसों में हलचल ना हो
तुम आना मेरे पास
मेरे दिल के हरे हरे जख्मों से 
एक वादा तुम कर देना

एक वादा ऐसा करना
जब मेरे दिल के जख्म आवाज दे तुझे
तुम हर दीवार तुम तोड़ कर आओगे
मेरे डूबती उम्मीदों के नौका को
हर बार पार तुम ही लगाओगे

जब सावन से बारिश रूठे हो,
अंतरिक्ष से उल्का पिंड टूटे हो
तुम आना मेरे पास
ना रूठोगे कभी, ना दिल तोड़ोगे कभी
एक वादा ऐसा कर देना

एक वादा ऐसा करना
जो वादा किसी और से ना करना
जो भी वादा मुझसे करना
उस वादा के लिए हद से गुजरना


तारीख: 24.05.2020                                                        राज यादव






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है