यारों मैं भी एक फ़ेसबुकिया साहित्यकार हूँ

यारों मैं भी एक फ़ेसबुकिया साहित्यकार हूँ
ये और बात मैं लिखता घटिया और बेकार हूँ ।


रहता हूँ मैं तलाश में दिन-रात मौज़ुआत के
रख देता रोज़ उड़ेल पोस्ट पे मन के उदगार हूँ ।


नहीं चाहिये मुझे शोहरत और तमगे बुलंदी के
मैं तो खुश हुआ पाकर आपका तिरस्कार हूँ ।


मेरी शायरी किसी तारीफ़ की है मोहताज नहीं
बस हक़ीक़त वयां करने के लिए मैं बेक़रार हूं ।


कभी न कभी कोई न कोई तो सराहेगा मुझे भी
बस उसी बेसब्र घड़ी, का अजय मैं इन्तज़ार हूँ


तारीख: 21.07.2020                                                        अजय प्रसाद






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है