ये अधूरा शहर

ये अधूरा शहर,
यंहा अधूरे लोग

पूरे होने की होड़ में
बिछड़ रहे,

आधे-अधूरे, पूरे लोग।


तारीख: 20.05.2020                                                        अंकित मिश्रा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है