माप लूँ ये पूरी माया

इन ऐनकों के पीछे,
तुम्हारी ये गहरी आंखे,

उनसे गहरी ये वृताकार छायां,

जो गर पढ़ सकूँ तो 'अर' बनूँ,
और माप लूँ ये पूरी माया।

 

'अर'- Radius/त्रिज्या


तारीख: 20.05.2020                                                        अंकित मिश्रा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है