मश्वरा

क्या हो जायेगा सुन राज, यूँ तेरे महफ़िल से उठ के जाने से,
मुस्कुरा रहे थे सब, यूँ गया जो तू किस बहाने से,

हर बार हर एक पे हर जगह तेरा गुस्सा नहीं वाज़िब,
कि बन जाता है काम कई दफे, सिर्फ मुस्कुराने से, 
 
उलझना ही नहीं होता, उन तमाम शातिर से लोगो से,
कि हमेशा लड़ नहीं सकते, हम इस जालिम ज़माने से,

यह सच है कि कोई भी बोला नहीं तेरी इमदाद को,
पर यह भी न सोच लेना तू कि हम सब है बेगाने से,

हर जगह कहां मिलते है, हमें अपने मिज़ाज़ के लोग,
लोगो को बस होता है मतलब, यंहा, पीने-पिलाने से,

जहाँ भी है ,जैसे भी हैं, पर, चंद दोस्त, मौजूद है, तेरे,
तो कुछ हासिल नहीं होगा तुझे, रोज उनको भी आज़माने से !! 


तारीख: 19.06.2017                                                        राज भंडारी






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है