मेरी तड़प का असर इस कदर देखा जाएगा

मेरी तड़प का असर इस कदर देखा जाएगा
तेरे मिलने पर आंखों में अब झलक सा जाएगा ।

ग़र आ गया गम का कतरा भी तेरी ज़िन्दगी में
मेरी खुशी का तेरे हिस्से में तबादला हो जाएगा।

दुआओं का मेरी कुछ ऐसा होगा इंतज़ाम
चंद लम्हों में तुझे तेरा मुकाम मिल जाएगा।

न पूछना कभी किसी से खुद के संवरने का सच
मेरे बिखरने का चर्चा सर-ए-आम हो जाएगा।

मौत पे मेरी कुछ ऐसा होगा इंतज़ाम
आशिकों का जलसा ज़नाज़ा सजाएगा।


तारीख: 10.07.2017                                                        अखिलदीप दीक्षित






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है