सारी दुनिया को अब ये खबर हो गई


सारी दुनिया को अब ये खबर हो गई
कि वो परी अब मेरी हमसफ़र हो गई

वो सनम तो कभी थी सुधा सी मगर
इस बुरे जग में रहकर ज़हर हो गई

साथ उसके मुझे ये पता न चला
शाम से ऐ खुदा कब सहर हो गई

मैं न जी पाया उसके बिना एक पल
उसकी मेरे बिना ही गुजर हो गई

थी नदी भोली भाली,समुन्दर मगर
तुझमे डूबी तो इसमें लहर हो गई


तारीख: 15.06.2017                                                        पीयूष गुप्ता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है