प्रदूषण की समस्या


प्रदूषण की समस्या होती जा रही है विकराल
अगर समय से न रोका गया इसे बन जायेगी इंसानों का काल।
बडी-बडी धुँआ छोडती गाडियाँ
दे रही है फेफडों की बिमारियाँ।


कल तक जो गंगा थी स्वच्छ और निर्मल
हमने मिलाकर रसायन प्रदूषित कर दिया है उसका जल।
कचरा जो नदियों में डाला जा रहा है
वो जल प्रदूषण फैला रहा है। 


हम सब करें संसाधनों का सदुपयोग
प्रदूषण बढता है करने से उनका दुरूपयोग।
अपने स्वार्थ के लिए वनों को काटा जाता है
बिना वृक्षों के पूरा वातावरण दूषित हो जाता है।


आओ हम सब मिलकर वृक्ष लगायें
अपने वातावरण को प्रदूषण मुक्त बनायें।


 


तारीख: 05.08.2017                                                        विशाल गर्ग






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है