रात तुमसे मिली जब ये मेरी नजर

रात तुमसे मिली जब 
ये मेरी नजर
रंग खाबो के अब तक
छुटे नही

पल दो पल का सही 
साथ अपना सनम
हाथ मे हाथ हो
फिर तो छुटे नही

आंखों की रंगीनियां
अब तुम्हारी हुई
है अमानत तेरी
प्रीत छुटे नही

कोई वादा नही
कोई कसम भी नही
एक दुआ है यही
साथ छुटे नही।


तारीख: 17.12.2017                                                        विजयलक्ष्मी जांगिड़






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है