ज़रा-सा बहक जाना चाहता हूँ

ज़रा-सा बहक जाना चाहता हूँ,
यूँ जीवन-भर संभल-संभल कर चलना, 
मुझे अच्छा नहीं लगता।

मजबूरी हैं कि इतना गंभीर हूँ, वरना
हँसना किसे अच्छा नहीं लगता?

जीवन पथ हैं दुर्गम,
काँटों पर चलो तो मिलता हैं मुकाम, वरना
फुलों का हार किसे अच्छा नहीं लगता?

एक बार गिर जाने दो मुझे,
यह ठोकर ही ले जायेगी आगे, वरना
संभल-संभल कर चलना किसे अच्छा नहीं लगता?

अगर चलना ही मुकद्दर में हैं मेरे तो,
बेशक चलूँगा,
चलता ही रहूँगा, वरना
जरा-सा ठहरना किसे अच्छा नहीं लगता?

जरा-सा बहक जाना चाहता हूँ                    
यूँ जीवन-भर संभल-संभल कर चलना
मुझे अच्छा नहीं लगता ।।


तारीख: 18.07.2017                                                        प्रेम एस. गुर्जर






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है