देख तूने ये क्या से क्या कर डाला

देख तूने ये क्या से क्या कर डाला 
देखते ही देखते इंसान को इंसान से 
हैवान बना डाला 
देखते ही देखते मिट गयी मानवता 
मिट गया इंसान 
देख तूने ये क्या से क्या कर डाला 

अरे थे तो ये तेरे ही लाल 
फिर क्यों हिन्दू मुस्लिम में बाट दिया इन्हें 
किया ये कैसा न्याय तूने 
मानवता को धर्म में बाट दिया
नही हुई तृप्ति तो तूने 
धर्म को जात पात में काट दिया 
देख तूने आज मानवता को नाश दिया

लड़ रहे है कौम कौम के नाम 
लूट रही है अस्मत हिन्दू मुस्लिम के नाम 
जल रही है मानवता धू धू कर के 
देख तूने क्या से क्या कर डाला 
मानव को मानवता से दूर कर डाला
अपनों को क्षण में बेगाना कर डाला 

इंसान को इंसान न रहने दिया 
आमिर गरीब का भेद कर डाला 
देख तूने क्या से क्या कर डाला 
इंसान को इंसान से लड़ा डाला 
संस्कृति को सभ्यता से लड़ा डाला
विश्व को देश देश में बाट कर 
देश देश को आपस में लड़ा डाला 
देख तूने क्या से क्या करा डाला
 
अरे कुर्सी अब तो थम जा तू 
वरना एक दिन आएगा जब 
लड़ लड़ के तू खुद टूट जायेगी           


तारीख: 29.06.2017                                                        रजत प्रताप






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें