मेरी पायल कुछ कहती हैं

रोशनी जो एक छोटे से गाँव एक छोटे से परिवार में पल रही अपनी मासूमियत से भी ज्यादा नादान, और अपने व्यवहार से बेहद प्यारी और अपनी उम्र के हिसाब से बहुत समझदार औऱ बहुत सुलझी हुई लड़की है।उसके सपने बहुत बड़े तो नही लेकिन हाँ उन सपनों को पुरा करने में मुश्किलें अनेकों हैं, फिर भी उसके हौसले बुलंद हैं। रोशनी को पढ़ाई लिखाई करना उतना पसन्द नहीं या यूं कहें कि स्कूल के नाम पर गाँव में बस एक कमरा है, जिसमें टीचर होना न होना सब बराबर हैं , जिसके कारण ही रोशनी पढ़ाई के प्रति उतनी उत्सुक नही।रोशनी ने अपने खुद की होशियारी से नर्तकी सेंटर जॉइन किया हैं,जिसके प्रति वो दिलों-जा से मेहनत करती है और अपने सपनों के मंजिलों सफ़र को दिन प्रतिदिन तय कर रही है।
डांस क्लास खत्म हो चुकी थीं, शाम के बाद का अंधेरा भी अपने पंख पसार रहा था।और आज रोशनी अकेली घर की ओर बढ़ रही थीं, सन्नाटे में रोशनी के कदम जैसे-जैसे बढ़ते हैं, वैसे-वैसे उसकी पायल भी उससे कुछ कहती या यूं कहें कि उसकी सखि बन उससे बातें करती।
रोशनी घर पहुँची ही थीं कि उसके घर का परिदृश्य कुछ रंगीन हो चुका था।रोशनी को देखते ही उसके छोटे भाई ने बोला दीदी जल्दी तैयार हो जाओ वो मेहमान आज फिर आ रहें हैं जो कल आपको पैसे दे रहें थे।जल्दी जाओ अम्मा आपका इंतजार कर रही है ऊपर कमरें में।
रोशनी कमरे में दाखिल हुए ही थी कि अम्मा बोली वो साहब आ रहे हैं बिटियां जल्दी तैयार हो जाओ आज वो बोले हैं कि तुम्हें वो बड़े सी जगह ले जाएँगे जहाँ सभी नर्तकी जाती है.....बड़ी सी जगह।
आज रोशनी के चेहरे की खुशी कुछ गुम सी हो गयी थी वो किस कशमकश से गुज़र रही थी उसका अंदाजा केवल शायद उसकी उस सखि को ही था... जिसकी अंसुलझी सी गुनगुनाहट भी रोशनी बख़ूबी समझती थी।
आज रोशनी को वो पल पायल याद आया जब उसने केवल उस पायल के कारण ही नर्तकी बनाना चुना था...जिसके कारण उसकी आज 15 की उम्र उससे उसके सपनों को छीन रहीं हैं,और आज रोशनी एक बड़े शहर जा तो रही हैं... अपने परिवार को मुश्किलों से दूर कर अपने आपकी मुश्किलों में डाल रही है।आज से वो शहरी नर्तकी तो बन रही है लेकिन वो नर्तकी जो सभ्य समाज के लिए हमेशा गंध का दर्जा रखती है।और इन सब मुश्किलों में उसकी पायल ही उसकी आवाज़ होगी। वो आवाज़ जो उसके सपनों को बेजुबां और उस गंध को जन्म लेने के लिए मजबूर करने वालों की जरूरतों कि आवाज़ होगी।


तारीख: 06.07.2021                                                        नेहा मिश्रा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है