बेटे

कदकाठी में हूबहू पिता के जैसे

आँख की नमी में माँ से लगते है,

खुशनसीब होते हैं ऐसे सारे घर

जहां बेटे परछाईं बन बहन में बसते हैं !

 

संबल , आस, उम्मीद जहां भर की,

हर सवाल के हाजिर जवाब में रखते हैं,

घर की रौनक बन चहकते बेटे,

परिवार को रौशन कर चिराग से दिखते हैं !

 

कभी झगड़े, कभी मस्ती , कभी धूम-धड़क्का

जिन्हें लड़ाकू कहकर दोस्त शिकायत करते हैं !

सबसे  से आँख बचाकर आज भी

अम्मा के तकिये के नीचे बटुआ छिपा कर रखते हैं !

 

रिश्ते की बात चले अगर कभी तो,

शर्माकर कनखियों से माहौल को तकते हैं !

फोटो देख अपने भावी जीवन साथी का,

पैर के अंगूठे से फर्श की दरार को कुरेदते हैं !

 

बेटा, भाई, पति और पिता का किरदार निभाकर,

अपने वजूद को तलाश हरबार तरसते हैं !

घर की नींव की ईंट में लगे सिमेंट जैसे,

रिश्तों में आई हर दरार को भरते हैं !

 

कदकाठी में हूबहू पिता के जैसे

आँख की नमी में माँ से लगते है,

खुशनसीब होते हैं ऐसे सारे घर

जहां बेटे परछाईं बन बहन में बसते हैं !


तारीख: 26.08.2020                                                        सुजाता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है