आइना मुझको दिखाता है कलम

आइना मुझको दिखाता है कलम
चाह जीने की जगाता है कलम ।
*****
बात जो मन में दबी थी कह रहा
साथ सच का ही निभाता है कलम
*****
राज वो हमपर करे मुमकिन नही
बादशाही को डराता है कलम ।
*****
सोचता हूँ मैं कभी तुम पर लिखूं
आग सीने में लगाता है कलम ।
*****
झूठ का जो मैं कभी गर साथ दूँ
ख़ाक में मुझको मिलाता है कलम ।
*****
आपका दिल चाहता वो ही लिखो
दाद सबको ही दिलाता है कलम ।


तारीख: 16.06.2017                                                        ऋषभ शर्मा रिशु






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है