नारी की बिडम्बना


सौम्य, कोमल सहृदय है नारी, 
देवतुल्य पूजनीय. है नारी, 
कुटुंब की गरिमा है नारी, 
पुरुष प्रधान समाज में है बेचारी |
काली, दुर्गा, चंडी का रूप है नारी, 
खोखले समाज की रीढ़ है नारी, 
एक नारी है सब पर भारी ,
फिर भी दबायी जाती है नारी |
अत्यंत दयनीय स्थिति में है नारी, 
जन्म देने वाली है नारी ,
पालकर बड़ा करने वाली है नारी, 
फिर भी जन्म के अधिकार को भी वंचित है नारी |
बचपन से ही सिसकती है नारी, 
हसने, खेलने, घूमने पर है पाबन्दी भरी ,
छीन ली जाती है आज़ादी सारी, 
छोटी सोच का शिकार है नारी |
शादी के लिए लगती है बोली, 
अपनी कीमत खुद ही चुकाती है नारी, 
बेचकर वह अपने अस्तित्व को ,
जीवित ही चिता जला लेती है नारी |
बलिदान की. मूर्ति है नारी, 
सहनशक्ति की मिसाल है नारी,
हज़ारो जुल्म. सहकर भी ,
हसती और हसाती है नारी |
बदलाव की चिंगारी है नारी, 
परिवर्तन का स्तम्भ है नारी, 
ठान ले अगर वह ,
कुछ भी कर सकती है नारी |
 


तारीख: 18.08.2019                                                        पूर्णिमा राज






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है