धुंध

धुंध थी सफर में
और मंजिल ओझिल
जिंदगी की कश्ती का वो मुसाफिर
पता नहीं कहां उतर गया
आधा अधूरा जीवन
सफर भी अधूरा रह गया
 


तारीख: 23.06.2024                                    प्रतीक बिसारिया









नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है