कुछ बात तो हो गयी 

            कल तक धान पर नज़र थी 
            और आज 
             पुआल पर हो गयी 
             कुछ बात तो हो गयी l 
                   
              धान भोजन है 
              पुआल घास 
              इस पर न चर्चा हो सकती है 
              न  वहस आज 
              जो  बात हो भी गयी
              वो  गंभीर हो गयी 
              जाने में हो या अनजाने में 
              कुछ बात तो हो गयी  l 

             उस  सितम में 
            अंतर -आत्मा तुम्हारी 
             जो रोयी 
             या न रोयी 
             वाणी 
             जो मौन हो गयी 
             कुछ बात तो हो गयी 
             कल तक
             धान पर नज़र थी 
             और आज 
             पुआल पर हो गयी 
             कुछ बात तो हो गयी 


तारीख: 12.04.2020                                                        मोहिन्दर सिंह नदेड़ा






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है