निर्भया


सात बरस लंबी
अन्याय की काली रात
बीत गई!
मुबारक हो निर्भया,
तुम न्याय की जंग
जीत गई !


सब्र देख तुम्हारा
वक्त की आँखें भी भीग गई!
बेशक देर लगी, आखिरकार
वहशियों की सांसे आज रीत गई!
मुबारक हो,  निर्भया,
आत्मसम्मान की ये जंग तुम जीत गई!


तारीख: 18.04.2020                                                        सुजाता






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है