असफलता

जब-जब उठ के देखा
साथ मेरे तनहाइयां थी
लगा कोई साया सा साथ है
शायद मेरी परछाइयां थी
जीवन में चंद वो सुख के पल
वो मेरी अच्छाइयां थी
फटे हुए गरीबाँ में जब-जब झांक के देखा है
मेरी असफलताओं की कहानीयां थी
सब कुछ ख़त्म था 
देने के लिए मेरे पास सिर्फ दुआएं थी 
 


तारीख: 23.06.2024                                    प्रतीक बिसारिया









नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है