रेशम का बिछोना है

आलीशान, खूबसूरत, सबसे कोमल,

सबको होना है ।

सबसे रूठे, हारे थके जब,

इसपर ही गिरकर रोना है।

झट आँसू सूखे मन बहले,

जा बिस्तर पे ही सोना है ।

पैरों में रक्खे इतराते,

इस से दुनिया में दो ना है ।

तकिए कम्बल बिस्तर पे,

उसके हिस्से में कोना है ।

सबका चहेता, सबसे कोमल,

रेशम का बिछोना है ।


तारीख: 21.03.2024                                    गौरव









नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें