वो एक बात

 

वो एक बात जो कहना चाहता था मैं
नहीं तेरे बिन रहना चाहता था मैं।

वो बात जब याद आती है
एक अजीब सी उदासी छा जाती है।

वो बात बहुत जरूरी थी
बिन उसके हमारी जिंदगी अधूरी थी।

काश बिना कहे समझती तुम वो बात
बना रहता हमारा पूरी उम्र का साथ।

वो बात मैं समझा नहीं पाया
या तुमने कभी समझना ही नहीं चाहा।

वो एक बात जो कहना चाहता था मैं
नहीं तेरे बिन रहना चाहता था मैं।


तारीख: 06.04.2020                                                        विशाल गर्ग






नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है