मतदान-घनाक्षरी

आ गयी है बेला अब मतदान करने की
नेता जी भी सज धज कर चले आएंगे
अपने पंचवर्षी कारनामों की वो लिस्ट लेके
बोतल मटन और मुर्गा खिलाएंगे
रहना तुम सावधान देना उन्हें मतदान
जो तुम्हें विकास की रोशनी दिखाएंगे
लोकतंत्र की ये पूजा मतदान रूप में है
पांच साल इसका ही फल हम पाएंगे।


तारीख: 27.02.2024                                    मोहित नेगी मुंतज़िर









नीचे कमेंट करके रचनाकर को प्रोत्साहित कीजिये, आपका प्रोत्साहन ही लेखक की असली सफलता है


नीचे पढ़िए इस केटेगरी की और रचनायें